पशुपालन लोन कैसे मिलता है | पशुपालन लोन योजना के बारे में जानकारी – फॉर्म, डॉक्यूमेंट व प्रक्रिया

पशुपालन लोन से समबन्धित जानकारी

देश में बढ़ती बेरोजगारी को देखते हुए सरकार तरह – तरह की योजनाओ का आरम्भ करती रहती है | ऐसे ही एक योजना का आरम्भ केंद्र सरकार द्वारा किया गया है जिसका नाम पशुपालन योजना दिया गया है | इस योजना का पात्र खासकर उन लोगो दिया जायेगा, जो पशुओ का पालन कर अपने जीवन यापन करते है | ऐसे लोगो को सहायता प्रदान करने के लिए केंद्र सरकार ने इस स्कीम को सभी राज्यों में लागू किया है |

बहुत से लोग है जिन्हे इस तरह कि योजनाओ के बारे में किसी तरह की जानकारी नहीं होती है जिसके चलते वह इन योजनाओ से वंचित रह जाते है | यहाँ हम आपको पशुपालन योजना से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध कराने जा रहे है और इसमें आपको बतायेंगे कि पशुपालन लोन कैसे मिलता है, पशुपालन लोन योजना के बारे में जानकारी – फॉर्म, डॉक्यूमेंट व प्रक्रिया की पूरी जानकारी से अवगत करायेंगे |

पशुपालन योजना क्या है (What Is Animal Husbandry Scheme)

देश के ग्रामीण क्षेत्रो में रहने वाले ज्यादातर लोग पशुपालन एवं कृषि जैसे रोजगारो पर निर्भर रहते है | लेकिन कुछ लोग ऐसे भी होते है जिनकी आर्थिक स्थिति बहुत अधिक ख़राब होती है | गरीब वर्ग के लोग ही पशु पालन करते है पैसो की समस्याओ के चलते वह पशुओ को नहीं पाल पाते है क्योकि पशुओ के रहने व उनके चारे के लिए उनके पास पर्याप्त धन नहीं होता है |

जिसके कारण वह या तो उन पशुओ को बेच देते है या उन्हें आवारा छोड़ देते है, जिससे देश में आवारा पशुओ की तादात बढ़ती जा रही है | जिसे देखते हुए सरकार ने कुछ नियम के साथ इस योजना के तहत बैंकों को आदेश दिए है, कि पशुपालन के लिए भी लोन उपलब्ध कराया जाए ताकि लोगो को सहायता प्रदान हो तथा वे पशुपालन के प्रति दिलचस्पी दिखाए व देश के पशुओ की स्थिति स्थिर बनी रहे |

पशुपालन योजना (Animal Husbandry Scheme)

ऐसी योजनाए प्रतिवर्ष देश में केंद्र तथा राज्य सरकार द्वारा कुछ संशोधन करके जारी होती रहती है | इस तरह की योजनाओ द्वारा बेरोजगारी की मार को सिमित करने के लिए और गरीब किसानों की सहयता के लिए बनाई जाती है | किसी भी योजना के अंतर्गत मिलने वाली सहायता राशि बैंक के माध्यम से प्राप्त होती है , अर्थात इस लोन को प्राप्त करने के लिए योजना द्वारा निर्धारित कुछ नियमो को पूरा करना होता है , इन नियमो को भलीभांति पूरा करने वाला ही व्यक्ति इस ऋण को प्राप्त कर सकता है, यह नियमों की जानकारी कुछ इस प्रकार है:-

कृषि विभाग के उप संचालक से संपर्क करे (Contact Deputy Director of Agriculture Department)

योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए सबसे पहले आपको अपने जिले के कृषि विभाग के डिप्टी डायरेक्टर से संपर्क करना होगा तथा उन्हें इस योजना के बारे में बताए , और उस स्थान को दिखाए जहाँ आप उन पशुओ को रखेंगे व उनके रख – रखाव से जुड़ी सभी सुविधाओं के बारे में बताये |

योजना प्राप्त हेतु बनाये गए प्रोजेक्ट में जरूरी डॉक्यूमेंट

  1. उस जमीन का  ब्यौरा जैसे जमीन कितनी है व उस जमीन का मालिक कौन है आदि जानकारी देनी होती है |
  2. योजना में जमीन से जुड़े सभी कागजो का होना अनिवार्य होता है यदि आपने जमीन को किराये पर लिया है तो उसका रेंट एग्रीमेंट होना जरूरी होता है |
  3. आपका कितना खर्च आ रहा है व आप उसमे कितना धन लगा रहे है, इसके बारे में जानकारी देनी होती है |
  4. बैंक से आप कितना ऋण प्राप्त करना चाहते है |
  5. ऋण किस पशुपालन योजना के अंतर्गत लेना चाहते है |
  6. ऋण लेने वाले व्यक्ति के पास जाति प्रमाण पत्र का होना आवश्यक है |

बैंक द्वारा मांगे गए दस्तावेज

बैंक पासबुक (Bank Passbook Copy)

पहचान पत्र (Govt Certified Identity Card)

आधार कार्ड (Aadhar Card)

पैन कार्ड (Pan Card)

पासपोर्ट साइज फोटो (Passport Size Photo)

सम्बंधित अधिकारी से अनुमोदन (Approval From Concerned Officer)

स्टेप – 1

सबसे पहले आपको सम्बंधित विभाग में जाकर सभी जरूरी कागजातों के बारे में जानकारी प्राप्त कर लेनी चाहिए जो आपके ऋण प्राप्त करने के लिए आवश्यक है , उसके बाद आप उस अधिकारी के पास जाकर उस प्रोजेक्ट पर मोहर लगवा ले व् अधिकारी द्वारा ऋण प्राप्त करने की अनुमति प्राप्त कर ले इसके बाद अधिकारी द्वारा बताये गए बैंक में जाकर ऋण प्राप्ति के लिए आवेदन करे |

स्टेप – 2

ऋण प्राप्ति के लिए अधिकारी द्वारा बताये गए बैंक में जाए और वह उस प्रोजेक्ट के बारे में बैंक अधिकारी को समझाए , वह आपके प्रोजेक्ट तथा डिप्टी डायरेक्टर के हस्ताक्षर व मुहर को देख ऋण पास कर देगा , तथा ऋण में निर्धारित की गयी राशि को आपके बैंक खाते में हस्तांतरित कर दिया जायेगा | यदि आप आरक्षित वर्ग से आते है , तो आपको आरक्षित वर्ग के अंतर्गत सरकार द्वारा निर्धारित अनुदान यानि कि सब्सिडी भी प्रदान किया जायेगा |