सूअर पालन के लिए लोन कैसे प्राप्त करे | Pig Farming Scheme in Hindi

सूअर पालन (Pig Farming) से सम्बंधित जानकारी

आज के आधुनिक युग में उच्च शिक्षा प्राप्त करनें के वावजूद भी इस बात की गारंटी नहीं है, कि आपको एक अच्छी नौकरी मिलेगी | ऐसे में बेरोजगार लोगो की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है | हालाँकि इस संख्या को कम करनें के लिए सरकार द्वारा लगातार प्रयास किये जा रहे है | इसी क्रम में सरकार द्वारा सूअर पालन योजना का शुभारम्भ किया गया है, हालाँकि भारत में सूअर पालन का विशेष वर्ग द्वारा किया जाता है, परन्तु पिछले कुछ वर्षो से इस व्यवसाय में अनेक नवयुकों ने रूचि दिखाई है तथा ग्रामीण क्षेत्रों में इससे प्राप्त लाभ को देखते हुए जगह-जगह पर सूअर फार्म खोले जा रहे हैं |

यदि आप भी सूअर पालन लोन योजना के अंतर्गत अपना व्यवसाय शुरू करना चाहते है, तो सूअर पालन के लिए लोन कैसे प्राप्त करे? इसके बारें में आपको यहाँ पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है | इसके साथ ही यह योजना के तहत मिलनें वाली सब्सिडी के बारें में बताया जा रहा है |

बकरी पालन के लिए लोन कैसे ले

सूअर पालन योजना क्या है (What is Pig Farming Scheme)

सूअर पालन व्यवसाय को अधिक लाभ देने वाले व्यवसायों में से एक माना जाता है | हालाँकि हमारे देश में सूअर पालन का कार्य बहुत ही पुराने समय से किया जा रहा है | भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर में इसके मांस की मांग सबसे अधिक है, इसके अलावा कास्मेटिक प्रोडक्ट और दवाओं में भी इसका उपयोग अधिक मात्रा में किया जाता है | सबसे खास बात यह है कि इस व्यवसाय को शुरू करनें के लिए किसी खास शैक्षिक योग्यता या अनुभव की आवश्यकता नही होती है | सरकार द्वारा इस व्यवसाय को बढ़ावा देने का मुख्य उद्देश्य युवाओ को स्वरोजगार की तरफ प्रेरित करना है।यहाँ तक कि सरकार लोगो को लोग को अपना व्यवसाय शुरू करनें के लिए विभिन्न योजनाओं द्वारा ऋण के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान की जा रही है |

दरअसल पशुपालन व्यवसाय में अन्य पशुओं की अपेक्षा सूअर पालन को सबसे सस्ता और मुनाफा देने वाले बिजनेस माना गया है | इसका मुख्य कारण मार्केट में इसके मांस कीमांग तेजी से बढ़ती जा रही है और इस पशु को पालने का लाभ यह है कि एक तो मादा सूअर एक ही बार में 5 से 14 बच्चे देने की क्षमता वाला एकमात्र पशु है | सूअर पालन व्यवसाय में लगत कम और मुनाफा अधिक मिलता है |

सूअर पालन योजना के उद्देश्य (Objectives of Pig Farming Scheme)

सरकार द्वारा सूअर पालन योजना को शुरू करनें का मुख्य उद्देश्य देश मे बेरोजगार लोगो को व्यवसाय के माध्यम से रोजगार उपलब्ध कराना है | सूअर पालन एक ऐसा व्यवसाय है, जिसे बहुत ही कम लागत से शुरू किया जा सकता है, यदि आप इस व्यवसाय को बड़े पैमानें पर करना चाहते है तो सरकार द्वारा इसके लिए सब्सिडी के साथ लोन की सुविधा दी जा रही है |

ऐसे में यह व्यवसाय बेरोजगार लोगो के लिए आय का एक अच्छा साधन बन सकता है और इसके लिए आपको किसी प्रकार के विशेष प्रशिक्षण प्राप्त करनें की आवश्यकता नही होती है | सूअर का मांस भोजन के रूप में खाने के अलावा इसका प्रत्येक अंग किसी न किसी रूप में उपयोगी है। सूअर की चर्बी, पोर्क, त्वचा, बाल और हड्डियों से विभिन्न प्रकार के कास्मेटिक सामान तैयार किये जाते हैं। इसे व्यवसाय को अपनाकर बेरोजगार युवक आत्मनिर्भर बन सकते हैं।

सुअर पालन हेतु वित्तीय सहायता और सब्सिडी (Financial Assistance &Subsidy for Pig Farming)

सूअर पालन व्यवसाय शुरू करनें के लिए सरकार द्वारा ऋण के रूप में धनराशि प्रदान की जाती है | वैसे तो इस बिजनेस को शुरू करनें में खर्च, पशुओं की प्रजाति और उनकी संख्या पर निर्भर होती है, हालाँकि इस व्यवसाय के लिए सरकारी संस्थाओं जैसे बैंकों और नाबार्ड और सरकारी बैंकों द्वारा ऋण सुविधा उपलब्ध है। बैंकों और नाबार्ड द्वारा दिए जाने वाले लोन पर पर ब्याज दर और समयावधि अलग-अलग होती है। वैसे ऋण पर ब्याजदर 12 प्रतिशत प्रतिवर्ष होती है।

यदि आप सूअर पालन योजना के अंतर्गत ऋण के लिए आवेदन करते है, तो इसके लिए सरकार 1 लाख तक की धन राशि पर सब्सिडी देती है| इससे अधिक धन राशि लेने पर अपने क्षेत्र के एरिया नाबार्ड खेती परियोजना अधिकारी से संपर्ककर लोन राशि पर अधिक छूट प्राप्त कर सकते है।

  • एक लाख रूपए तक का ऋण लेने पर ब्याज दर 0% होगी अर्थात इस राशि पर कोई ब्याज नही लिया जायेगा।
  • एक लाख रूपए से अधिक धनराशि पर 15% से लेकर 25%तक ब्याज देना होगा |
  • नाबार्ड सूअर खेती परियोजना के अंतर्गत आपको ऋण की राशि पर 20 से 30%  तक सब्सिडी प्रदान की जाएगी।

मत्स्य पालन के लिए लोन कैसे लें

सुअर पालन लोन योजना हेतु पात्रता (Eligibility for Pig Farming Loan Scheme)

  • आवेदक को भारतीय नागरिक होना आवश्यक है | 
  • लोन लेने वाले व्यक्ति को आयु 18 वर्ष से कम नही होनी चाहिए।
  • इस स्कीम के अंतर्गत आपके पास अपनें नगर निगम अधिकारी द्वारा अनुमति पत्र होना आवश्यक है।
  • सूअर पालन स्कीम के मुताबिक, पशुपालक के पास पशुओं को रखने के लिए स्वयं की जमीन होनी चाहिए अथवा आप कोई जमीन कम से कम 10 वर्ष के लिए लीज पर ले सकते है |
  • पशुओं को विभिन्न प्रकार बिमारियों से बचाने के लिए आपके पास पर्याप्त पर्याप्त सुविधा होनी चाहिए, ताकि आवश्यकता पड़ने पर आप उन्हें नजदीकी चिकित्सक केंद्र तक पंहुचा सके।
  • आवेदन करने हेतु शैक्षणिक योग्यता या फिर अनुभव की कोई खास आवश्यकता नहीं है।

सुअर पालन लोन योजना हेतु आवश्यक दस्तावेज (Documents Required for Pig Farming Loan Scheme)

  • आवेदक का आधार कार्ड (Aadhar Card)
  • नगर निगम अधिकारी द्वारा जारी अनुमति |
  • बैंक अकाउंट विवरण (Bank Account Details)
  • नवीन पासपोर्ट साइज़ फोटो (Passport Size Photo)
  • जमीन से सम्बंधित दस्तावेज |

सूअर पालन लोन योजना में आवेदन कैसे करे (How to Apply for Pig Farming Loan Scheme)

  • सूअर पालन लोन योजना के अंतर्गत अभी ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया शुरू नही हुई है, अभी आपको इसके लिए ऑफलाइन आवेदन करना होगा |
  • सूअर पालन लोन योजना के लिए सबसे पहले आपको इससे सम्बंधित जानकरी प्राप्त करनें हेतु अपनें नजदीकी बैंक से जानकारी प्रपात करनी होगी |
  • इसके पश्चात आप बैंक से ऋण प्राप्त करनें के लिए आवेदन फॉर्म प्राप्त करे |
  • आवेदन फॉर्म को भरनें के पश्चात उसमें आवश्यक दस्तावेजों को संलग्न कर बैंक में जमा करना होगा |
  • आवेदन फॉर्म जमा करनें के पश्चात बैंक द्वारा आपके दस्तावेजों का वेरिफिकेशन किया जायेगा, सभी डाक्यूमेंट्स सही पाए जानें पर आपका लोन बैंक द्वारा स्वीकृत कर दिया जायेगा |  
  • अब लोन की धनराशि आपके बैंक अकाउंट में ट्रान्सफर कर दी जाएगी | 
  • उसके बाद आपका लोन मंजूर कर दिया जाएगा।

पशुपालन लोन कैसे मिलता है