मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना क्या है ? ऑनलाइन पोर्टल पंजीकरण, योजना का लाभ

मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना से सम्बंधित जानकारी

मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य के किसानो को सहायता प्रदान करने के लिए भावांतर भुगतान योजना का आरम्भ किया है | इस योजना को 16 अक्टूबर 2017 प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह द्वारा आरम्भ किया गया | योजना के आने से प्रदेश के किसानो को उनकी फसल का सही मुनाफा मिल सकेगा | अक्सर ऐसा होता है, कि किसान अपनी फसल का उचित दाम नहीं प्राप्त कर पाते है, तथा उनकी फसलों के दाम भी आय दिन गिरते चढ़ते रहते है | इससे किसानो को काफी नुकसान उठाना पड़ता है | इन्ही समस्याओ को ध्यान में रखते हुए मध्य प्रदेश सरकार ने इस मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना का आरम्भ किया है |

आरम्भ में केवल दाल और तेल वाली 8 फसलों को ही इस योजना में शामिल किया गया था | किन्तु वर्ष 2018 में इसे बढ़ाकर 13 फसलों तक कर दिया गया | यदि आप भी मध्य प्रदेश के किसान है, और इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते है, तो उसके लिए आपको योजना कि आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा | इस लेख में आपको मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना क्या है, और भावान्तर योजना में ऑनलाइन पोर्टल पर जाकर पंजीकरण कैसे करे, तथा योजना का लाभ आदि के बारे में जानकारी दी जा रही है |

मुख्यमंत्री उद्यमी योजना क्या है

मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना क्या है (Mukhyamantri Bhavantar Bhugtan Scheme)

कोरोना महामारी के चलते फसलों के दाम में काफी गिरावट आई थी, जिससे किसानो को अधिक नुकसान भी उठाना पड़ा | इस मुख्यमंत्री भावान्तर योजना के आने से किसान अपनी फसल को उचित दामों पर बेच सकेंगे | इसके लिए किसानो को ऑनलाइन पोर्टल पर जाकर योजना में आवेदन करना होता है | योजना में आवेदन करने के बाद किसान भाई योजना का लाभ उठा सकेंगे | यह योजना किसानो के लिए आर्थिक सहायता के रूप में जानी जाएगी | योजना के आरंभ होने से अब तक तक़रीबन 118.57 लाख किसानो ने आवेदन किया है | आप भी ई-उपार्जन पोर्टल में जाकर इस योजना में आवेदन कर सकते है |

मुख्यमंत्री भावान्तर योजना के महत्वपूर्ण तथ्य
योजना का नाममुख्यमंत्री भावान्तर योजना
योजना का आरम्भमध्य प्रदेश सरकार द्वारा
राज्यमध्य प्रदेश
योजना का उद्देश्यराज्य के किसानो को सहायता प्रदान करना
लाभार्थीमध्य प्रदेश के किसान
Official Websitehttp://mpeuparjan.nic.in/

मध्यप्रदेश भावांतर भुगतान योजना के लाभ एवं विशेषताएं (Madhya Pradesh Bhavantar Bhugtan Yojana Benefits and Features)

  • इस योजना के अंतर्गत पिछले 5 वर्षो में तक़रीबन 2415.62 लाख टन अनाज की खरीददारी की गई |
  • योजना में आवेदन करने के लिए लाभार्थी को किसी भी सरकारी दफ्तर में नहीं जाना होता है, वह ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से ही योजना में आवेदन कर सकेंगे |
  • इससे किसानो की आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा |
  • वह किसान जो न्यूनतम सपोर्ट रेट से कम दामों पर अपनी फसल को बेचकर नुकसान उठा रहे है, उनकी कीमत की भरपाई सरकार द्वारा की जाएगी |
  • योजना से प्राप्त सहायता राशि से किसान अपनी अगली फसल को उपजाऊ बना सकेंगे, जिससे उनकी आय में भी बढ़ोतरी होगी |
  • योजना से प्राप्त होने वाली राशि सीधा लाभार्थी के खाते में भेजी जाएगी, इसलिए आवेदक का आधार कार्ड उनके बैंक खाते से जरूर लिंक होना चाहिए |
  • इस योजना के अंतर्गत खरीफ और रबी दोनों ही फसलों को शामिल किया गया है |
  • इस योजना का उद्देश्य प्रदेश के किसानो की आय को 2022 तक दोगुना करना है, इसके तहत यदि भुगतान राशि 3 महीने से अधिक की है, तो उसे राज्य सरकार द्वारा पुरुस्कार प्रदान दिया जायेगा |

मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजना की पात्रता (Chief Minister Bhavantar Payment Scheme Eligibility)

  • केवल मध्य प्रदेश राज्य के नागरिक ही इस योजना में आवेदन कर सकते है |
  • आवेदक का किसान होना जरूरी है |
  • आवेदक किसान के पास अपनी जमीन से संबंधित सभी दस्तावेज होने चाहिए |

मुख्यमंत्री भावान्तर भुगतान योजनामें आवेदन के लिए जरूरी दस्तावेज (Chief Minister Bhavantar Payment Scheme Required Documents)

  • आधार कार्ड (Aadhar Card)
  • निवास प्रमाण पत्र (Domicile Certificate)
  • पहचान पत्र (Identity Card)
  • बैंक खाता पासबुक
  • MP पात्रता पर्ची
  • मोबाइल नंबर
  • पासपोर्ट साइज फोटो

भावांतर भुगतान योजना के अंतर्गत आने वाली फसलें (Bhavantar Bhugtan Scheme Under Crops Covered)

प्रदेश सरकार द्वारा आरम्भ की गई इस योजना में पहले सिर्फ 8 फसलों को ही शामिल किया गया था, जिसमे तेल निकालने वाली और दलहनी फसले थी | किन्तु बाद में योजना में 13 और फसलो को शामिल कर लिया गया है, जो रबी और खरीफ की फसले कहलाती है | इसके अतिरिक्त और भी फसले है, जिनकी जानकारी इस प्रकार है –

योजना के अंतर्गत आने वाली फसलेमूंग, सोयाबीन, तिल, मक्का, मूंगफली, ज्वार, गेहूँ, बाजरा, कपास, उरद, रामतिल |
MNP (न्यूनतम समर्थन मूल्य) वाली फसलेधान(चावल), मूंग, तुअर, उरद |
योजना में शामिल 13 फसलेमूंग, अरहर, मक्का, सोयाबीन, उरद, गेहूँ, मूंगफली, तिल,रामतिल, धान, ज्वार, कपास, बाजरा |

जैविक खेती पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करे

मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान योजना में ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करे (Chief Minister Bhavantar Bhugtan Scheme Online Registration)

  • सर्वप्रथम आपको मध्य प्रदेश की ई-उपार्जन आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होता है |
  • आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल कर आ जाता है |
  • इसके बाद आपको खरीफ 2019-2020 के विकल्प पर क्लिक करना होगा |
  • इसके बाद आपके सामने नया पेज खुलकर आ जाता है, इस पेज में आपको खरीफ उपार्जन वर्ष 2019-20 किसान पंजीयन के विकल्प पर क्लिक करना होगा |
  • आप एक नए पेज पर पहुंच जायेंगे, यह आपके आवेदन से जुड़ा पेज होगा |
  • इस पेज में आपको रजिस्ट्रेशन का प्रकार, आधार नंबर, और कैप्चा कोड को भरना होता है |
  • यह सभी चीजे भरने के बाद आपको पंजीयन के विकल्प पर क्लिक करना होता है |
  • आपके सामने योजना का रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुलकर आ जायेगा, इस फॉर्म में आपको पूछी गई सभी जानकारियों को ठीक तरह से भरना होगा |
  • सभी जानकारियों को ठीक तरह से भरने के बाद नीचे दिए SUBMIT के बटन पर क्लिक कर दे |
  • इस तरह से आपका रजिस्ट्रेशन पूर्ण हो जाएगा |

मछली पालन के लिए निःशुल्क प्रशिक्षण