जैविक खेती पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करे | Jaivik Kheti Portal Online Registration 2021

जैविक खेती पोर्टल (Jaivik Kheti Portal) से सम्बंधित जानकारी

अर्जेन्टीना, चीन और आस्ट्रेलिया आदि ऐसे कई देश है, जहाँ जैविक खेती की जा रही है | इन सभी देशों के नाम के साथ ही अब भारत का नाम भी जुड़ गया है | दरअसल पिछले कुछ समय से भारत में जैविक खेती उत्पाद की मांग प्रबल हुई है | हालाँकि किसान भाई अभी भी रासायनिक उत्पादों से मोह छोड़ नही पा रहे है | जैविक खेती की ओर आकर्षित करनें के लिए सरकार द्वारा निरंतर कदम उठाये जा रहे है |

यहाँ तक कि जैविक खेती से प्राप्त उत्पादन को बाजार में एक अलग पहचान मिल सके, इस उदेश्य से राष्ट्रीय एवं अंतर राष्ट्रीय स्तर पर प्रयास किये जा रहे है | जैविक खेती को बढ़ावा देने के उद्देश्य से केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में जैविक खेती से जुड़ा एक पोर्टल लॉन्च किया है | इस पोर्टल के माध्यम से रसायन मुक्त भारत की सोच को बढ़ावा देने के साथ ही फसलों में उपयोग होनें वाले रासायनिक खादों के प्रयोग को प्रतिबंधित किया जायेगा | इस आर्टिकल के माध्यम से आपको जैविक खेती पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण कैसे करे(Jaivik Kheti Portal Online Registration 2021) इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी दी गई है |

मछली पालन के लिए निःशुल्क प्रशिक्षण

जैविक खेती पोर्टल क्या है (Organic Farming Portal)

कैमिकल (Chemicals) और पेस्टिसाइड (Pesticides) का इस्तेमाल कम करनें के लिए केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा लगातार सार्थक कदम उठाये जा रहे है | जैविक खेती को लेकर अधिकांश कृषकों को इसके बारें में पर्याप्त जानकारी न होनें के कारण किसानों को रासायनिक विधियों से आर्गेनिक खेती की ओर परिवर्तित करना आसान नही है | हमारे देश में ऐसे किसानों की संख्या बहुत अधिक है,  जैविक खेती को लेकर आशंकाएं है जैसे- आखिर जैविक खेती कैसे होगी, इसके तौर-तरीके और सबसे अहम् बात इसका बाजार क्या है? ऐसी खेती के लिए जरूरी चीजें कहां से मिलेंगी आदि | सरकार नें इस प्रकार की समस्याओं को देखते हुए जैविक खेती पोर्टल https://www.jaivikkheti.in का शुभारम्भ किया है | इस पोर्टल की सहायता से किसानों को जैविक कृषि से जुड़ी विभिन्न प्रकार की जानकारी प्रदान की जाएँगी |             

इस पोर्टल के माध्यम से किसान भाई अपनें खेतों में मृदा की स्थिति उत्तम बनाये रखने के लिए उन्हें ऑनलाइन प्रशिक्षण बिल्कुल मुफ्त में दिया जायेगा, जिसमें फसल अपशिष्टो, पशु अपशिष्टो के साथ ही मिट्टी को पोषक तत्व प्रदान करने के लिए जैविक पदार्थो आदि से सम्बंधित जानकारी प्रदान की जाएगी |  इसके साथ ही जैविक खेती पोर्टल के माध्यम से किसान भाई अपनी फसलों को उचित दामों पर विक्रय कर सकते है | इस प्रकार की सुविधाओं का निशुल्क लाभ प्राप्त करनें के लिए किसानों को पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना आवश्यक है |

जैविक खेती पोर्टल से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य (Important Facts Related to Organic Farming Portal)

  • इस पोर्टल कि सहायता से देश के सभी किसान भाइयों को केन्द्र सरकार कीमहत्वपूर्ण योजनाएं जैसे- परम्परागत कृषि विकास योजना (PKVY), राष्ट्रीय कृषि विकास योजना (RKVY), सूक्ष्म सिंचाई (MicroIrrigation) और एमआईडीएच आदि की जानकारी भी उपलब्ध कराई जाएगी | 
  • जैविक खेती पोर्टल के माध्यम से किसान अपनी फसलों के उत्पादन को सीधे व्यापारियों को विक्रय कर सकेंगे | इससे किसानों और व्यापारियों के बीच कोई अन्य तीसरा व्यक्ति या बिचौलिया शामिल नही हो सकेगा |
  • कृषकों को अपनें जैविक उत्पादों को पोर्टल के माध्यम से विक्रय करनें के लिए व्यापारियों को इस पोर्टल में पंजीकृत करवाना होगा | 
  • इस पोर्टल के माध्यम से किसानों के जुड़ने के पश्चात उन्हें पीजीएस इंडिया सर्टिफिकेट प्रदान किया जायेगा |

बत्तख पालन कैसे करें

जैविक खेती पोर्टल पर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कैसे करे (How to Register Online On Organic Farming Portal)

  • आपको सबसे पहले जैविक खेती पोर्टल की आधिकारिक वेबसाइट http://www.jaivikkheti.in/पर जाना होगा |
  • आपके सामने होम पेज ओपन होगा, यहाँ आपको राईट साइड में ‘Register’ लिखा हुआ दिखाई देगा आपको इस आप्शन पर क्लिक करना देना है |
  • अब आपके सामनें एक नया पेज ओपन होगा, जिसमें आपसे पूछी गयी जानकारी दर्ज कर Submit पर क्लिक करे |
  • इस पोर्टल पर किसान के अलावा कोई भी अन्य व्यक्ति अपना पंजीकरण करवा सकता है, इसके लिए कोई बाध्यता नही है |   

जैविक खेती पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन के लिए – यहाँ क्लिक करे

(आप इस लिंक की सहायता से होम पेज की जगह डायरेक्ट रजिस्ट्रेशन पेज पर पहुँच जायेंगे)

रेशम कीट पालन (Sericulture) कैसे करे

पंजीयन प्रमाण पत्र से सम्बंधित जानकारी (Certificate Related Information)

  • इस पोर्टल के अंतर्गत किसान भाई 1 वर्ष से लेकर 3 वर्ष तक रजिस्ट्रेशन का विकल्प दिया गया है | जिसमें किसान अपनी इच्छानुसार समय का चयन कर निशुल्क पंजीकरण कर सकते है |
  • 1 वर्ष का पंजीकरण कराने वाले और 3 वर्ष का पंजीकरण कराने वाले किसानों का सर्टिफिकेट अलग-अलग दिया जायेगा |
  • प्रमाण पत्र या सर्टिफिकेट अलग-अलग होनें से किसानों को उनके आर्गेनिक उत्पादों का बेहतर दाम दिलाने का पूरा प्रयास विभाग द्वारा किया जायेगा |

जैविक खेती पोर्टल पर उपलब्ध सेवाएं (Services Available on Organic Farming Portal)

क्रेता रजिस्ट्रेशन (Buyer Registration)

कोई भी व्यक्ति पोर्टल पर बिना लॉग इन किये हुए उत्पादों को देखनें के साथ ही उन्हें सेलेक्ट कर सकते है परन्तु जब उस उत्पाद को क्रय करनें के लिए तैयार होंगे तो उन्हें पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा |  

विक्रेता रजिस्ट्रेशन (Vendor Registration)

एक साधारण किसान भी इस पोर्टल में अपना रजिस्ट्रेशन करा सकता है। रजिस्ट्रेशन प्रोसेस पूरा होनें के पश्चात किसान के उत्पाद का विवरण तथा डिलीवरी मोड और पेमेंट से सम्बंधित जानकरी दर्ज कर अपने उत्पाद को ई-बाजार में अपलोड कर सकता है।

समूह रजिस्ट्रेशन (Group Registration)

इस पोर्टल पर किसान समूह भी अपना रजिस्ट्रेशन कर सकता है। ग्रुप के लीडर को ग्रुप रजिस्ट्रेशन नंबर का इस्तेमाल कर ही पंजीकरण कराना आवश्यक होगा | रजिस्ट्रेशन करनें के पश्चात ग्रुप लीडर अन्य किसानों की ओर से उत्पाद और उससे सम्बंधित विवरण की जानकारी अपलोड कर सकता है।

बोली लगाकर (By Bidding)

ई-मार्केट से उत्पाद क्रय करनें के अलावा, किसानों द्वारा उपलब्ध कराये गये उत्पादों को खरीदार विक्रेताबोली लगाकर भी उत्पाद क्रय कर सकते है | पोर्टल पर बुक बिल्डिंग, मूल्य-मात्रा और रिवर्स नीलामी 3 प्रकार की बोली की सुविधा प्रदान कि गयी है |

क्रेता गाइड (Buyer’s Guide)

पोर्टल पर क्रेता गाइड अर्थात उत्पादों से सम्बंधित जानकारी जैसे- उत्पाद की श्रेणी, उत्पाद का मूल्य, राज्य, जिला, उपलब्धता, लागत आदि की जानकारी प्रदान की गयी है| कोई भी उत्पाद खरीदनें वाला व्यक्ति इस क्रेता गाइड के माध्यम से उत्पाद से सम्बंधित पूरी जानकारी घर बैठे प्राप्त कर सकता है |

टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर (Toll Free Helpline Number)

यदि किसी किसान भाई को किसी प्रकार की कोई समस्या आ रही है, तो वह टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर 033 23400020/21/22 पर कॉल कर अपनी समस्या का निराकरण प्राप्त कर सकते है |

मधुमक्खी पालन की शुरुआत कैसे करें