डेयरी उद्यमिता विकास योजना क्या है | नाबार्ड बैंक लोन स्कीम फॉर डेयरी फार्मिंग | Dairy Udyamita Vikas Yojana

Table of Contents

Dairy Udyamita Vikas Yojana

देश में पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार द्वारा डेयरी उद्यमिता विकास योजना का आरम्भ किया गया है | इस योजना के अन्तर्गत पशुपालको को गाय और भैंस खरीदने तथा उन्हें पालने के लिए सरकार द्वारा लोन प्रदान किया जायेगा | राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) के माध्यम से शुरू की गई डेयरी उद्यमिता विकास योजना के लिए केंद्र सरकार के विकास मंत्रालय द्वारा वर्ष 2019-20 के लिए 325 करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है | भारत में अधिकतर लोग ग्रामीण क्षेत्र में रहते है, जिस वजह से उन्हें किसी न किसी तरह के रोजगार की आवश्यकता होती है |

दूध का व्यापार ग्रामीण क्षेत्रों में उच्च स्तर पर होता है | यदि इसी दूध के व्यापार को डेयरी के तर्ज पर किया जाये तो इससे अधिक लाभ कमाया जा सकता है | इसी बात को ध्यान में रखते हुए सरकार ने पशुपालको को डेयरी खोलने के लिए प्रोत्साहन प्रदान कर रही है | यह प्रोत्साहन 33% सब्सिडी लोन के तौर पर मुहैया कराया जायेगा | यदि आप ग्रामीण क्षेत्र के निवासी है, और इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते है, तो इस पोस्ट में आपको डेयरी उद्यमिता विकास योजना क्या है, नाबार्ड बैंक लोन स्कीम फॉर डेयरी फार्मिंग, Dairy Udyamita Vikas Yojana से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की जा रही है |

किसान सूर्योदय योजना क्या है

डेयरी उद्यमिता विकास योजना क्या है (Dairy Udyamita Vikas Yojana)

केंद्र सरकार द्वारा आरम्भ की गयी डेयरी उद्यमिता विकास योजना पशुपालको को डेयरी के प्रति प्रोत्साहित करने वाली योजना है | योजना के तहत वह व्यक्ति जो डेयरी खोलना चाहते है, या पुरानी डेयरी का विकास करना चाहते है, उन्हें नाबार्ड (National Bank for Agricultural and Rural Development) बैंक द्वारा 33% तक का सरकारी सब्सिडी पर लोन प्रदान किया जायेगा | इस योजना के संचालन से भारत के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले उन नागरिकों को डेयरी के प्रति प्रोत्साहित कर रोजगार प्रदान करना है और जिनकी रोजगार की वास्तविक स्थिति आज भी सामान्य नहीं है |

ग्रामीण क्षेत्रों में फैक्ट्रिया और कंपनियों के न होने के चलते रोजगार एक बड़ी समस्या है | ऐसे में ग्रामीण क्षेत्र के लोग अपने जीवन यापन के लिए स्वरोजगार (दुकान चलाना, छोटे-मोटे कारखाने चलाना, गाये – भैंस दूध का व्यापार) का सहारा लेते है | इन सभी तरह के स्वरोजगार में से गाय-भैंस के दूध के व्यापार को अच्छा लाभ कमाने वाला माना जाता है | यदि दूध के व्यापार को बड़े स्तर पर किया जाये तो इससे अच्छा मुनाफा कमाया जा सकता है, किन्तु दूध के बड़े व्यापार को करने के लिए अधिक धन की जरूरत होती है | पशुपालको के पास पर्याप्त धन न होने की स्थिति में वह खुद की डेयरी नहीं आरम्भ कर पाते | ऐसे लोगो को केंद्र सरकार आर्थिक मदद के तौर पर 33 % की सरकारी सब्सिडी पर 7 लाख रूपए तक के ऋण को नाबार्ड बैंक के माध्यम से सहायता प्रदान कर रही है |

इसके अतिरिक्त नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनी (NBFC) ZipLoan द्वारा MSME कारोबारियों को 7.5 लाख तक के व्यापारिक लोन को बिना कुछ गिरवी रखे, न्यूनतम कागजातों पर सिर्फ 3 दिन में प्रदान कर रही है |

राष्ट्रीय गोकुल मिशन योजना क्या है

डेयरी उद्यमिता विकास योजना के लाभार्थी (Dairy Entrepreneurship Development Scheme)

  • भारत देश के सभी किसान (Indian Farmer)
  • व्यक्तिगत उधमी
  • संगठित व् असंगठित क्षेत्र के समूह
  • संगठित क्षेत्र का स्वयं सहायता समूह
  • डेयरी सहकारी समिति
  • दुग्ध संघ
  • पंचायती राज संस्थाए

एफआरपी (FRP) क्या है 

डेयरी उद्यमिता विकास योजना का उद्देश्य (Dairy Entrepreneurship Development Scheme Objective)

  • स्वच्छ दूध उत्पादन के प्रति आधुनिक डेयरी फार्मों की स्थापना को बढ़ावा देना |
  • अच्छे प्रजनन भंडारण का संरक्षण के लिए बछिया-बछड़ा पालन के प्रति लोगो को प्रोत्साहित करना |
  • असंगठित क्षेत्र में संरचनात्मक परिवर्तन के लिए दूध का प्रारंभिक प्रसंस्करण गाँव स्तर पर किया जाना |
  • गुणवत्ता और पारंपरिक प्रौद्योगिकी की उन्नत के लिए व्यावसायिक पैमाने पर दूध का संरक्षण करना |
  • असंगठित क्षेत्रों के लिए स्वरोजगार पैदा करना तथा बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराना |

डेयरी उद्यमिता विकास योजना की शर्तें (Dairy Entrepreneurship Development Scheme Conditions)

  • योजना के लाभार्थी परिवार को छोड़कर अन्य सभी संस्थाओ को केवल एक बार ही इस योजना का लाभ प्राप्त होगा |
  • डेयरी उद्यमिता विकास योजना के लाभार्थी परिवार की स्थिति में एक से अधिक सदस्यों को इस योजना के अंतर्गत सहायता प्रदान की जाएगी | बावजूद इसके कि वह अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग डेयरी की इकाइयों का स्थापना कर रहे हो |
  • ऐसी परिस्थिति में दोनों डेयरी की सीमाओं के बीच की दूरी कम-से-कम 500 मीटर होनी चाहिए |
  • यदि कोई व्यक्ति छोटी डेयरी की स्थापना करना चाहता है, तो उसे अपनी डेयरी में क्रासब्रीड गाय-भैंस (औसत से अधिक दूध देने वाली) जैसे : साहीवाल, रेड सिंधी, गिर गाय,राठी या भैंस रखनी होगी |
  • यदि कोई व्यक्ति 2 दुधारू पशु के साथ डेयरी की शुरुआत करना चाहता है, तो वह भी डेयरी यूनिट की शुरुआत कर सकता है |
  • वह व्यक्ति जिसके पास दो दुधारू पशु वाली डेयरी यूनिट है, तो उसे सरकार द्वारा 35 हजार रूपए की सब्सिडी प्रदान की जाएगी |
  • SC/ST श्रेणी के व्यक्तियों को दो दुधारू डेयरी पर 46,000 रूपए की सब्सिडी का प्रावधान है |
  • योजना के नियमो के अनुसार व्यक्ति या संस्था द्वारा स्थापित की गयी डेयरी में अधिकतम 10 दुधारू पशु रखे जा सकते है |

किसान सलाहकार क्या है

डेयरी उद्यमिता विकास योजना के लिए जरूरी दस्तावेज (DEDS Documents Required)

  • जायदाद के कागज
  • पहचान पत्र (Identity Card)
  • एड्रेस पूफ्र (Address Proof)
  • सिविल रिपोर्ट (Civil Report)
  • जाति प्रमाण पत्र (Caste Certificate)
  • इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return)
  • प्रोजेक्ट रिपोर्ट (Project Report)

डेयरी उद्यमिता विकास योजना के अंतर्गत लोन प्रदान करने वाली संस्थाए (Loan Providing Under Dairy Entrepreneurship Development Scheme)

  • सभी कमर्शियल बैंक
  • सभी क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक
  • राज्य सहकारी बैंक
  • राज्य सहकारी सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक
  • नाबार्ड बैंक (NABARD Bank)
  • अन्य ऐसे संस्थान जिनका नाबार्ड से संपर्क हो

caneup.in, गन्ना पर्ची कैलेंडर 2021 

डेयरी उद्यमिता विकास योजना में ऑनलाइन आवेदन कैसे करे (Dairy Entrepreneurship Development Scheme Online Registration)

  • योजना में आवेदन के लिए आपको सबसे पहले नाबार्ड की आधिकारिक वेबसाइट https://www.nabard.org/ पर जाना होगा |
  • आपके सामने वेबसाइट का Home Page खुल कर आ जायेगा |
  • इस होम पेज में आपको Information Center (सूचना केंद्र) का विकल्प दिखाई देगा |
  • इस विकल्प पर क्लिक कर आप एक नए पेज में पहुंच जायेंगे |
  • इस पेज में आपको योजना के आधार पर डाउनलोड PDF के विकल्प पर क्लिक करना होगा |
  • यह PDF फाइल आपका फॉर्म होगा |
  • इस फॉर्म को ठीक तरह से भरने के बाद आपको Submit कर देना होगा |

ड्रिप सिंचाई क्या है

डेयरी उधमी विकास योजना में लोन के लिए ऑफलाइन आवेदन कैसे करे (Dairy Udhamita Vikas Yojana Loan Offline Registration Process)

  • यदि आप डेयरी उद्यमिता विकास योजना के अंतर्गत ऋण प्राप्त करना चाहते है, तो उसके लिए आपको बताये गए किसी एक बैंक की शाखा में जाना होगा |
  • इसके बाद आपको शाखा प्रबंधक के पास जाकर डेयरी उद्यमिता विकास योजना के जरिये ऋण प्रदान करने के लिए आवेदन की जानकारी लेनी होगी |
  • आपको बैंक द्वारा एक फॉर्म दिया जायेगा |
  • इस फॉर्म को आपको ठीक तरह से भरना होगा |
  • फॉर्म को ठीक तरह से भरने के बाद जरूरी दस्तावेजों को इस फॉर्म के साथ लगा दे |
  • इसके बाद इस फॉर्म को बैंक में जमा कर दे जहाँ से आप ऋण प्राप्त करना चाहते है |
  • आपके लोन की स्वीकृति होने के पश्चात् आपको सब्सिडी का लाभ उठाने के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियों को बताया जायेगा |

Kisan Helpline Number

डेयरी उद्यमिता विकास योजना सहायता नम्बर (Dairy Entrepreneurship Development Scheme Helpline Number)

मुख्यमंत्री किसान सहाय योजना 2021