भेड़ पालन कैसे करें | Sheep Farming in Hindi | भेड़ पालन के बारे में जानकारी

भेड़ पालन (Sheep Farming) से सम्बंधित जानकारी

भारत में लगभग किसान कृषि कार्य करनें के साथ ही पशुपालन भी करते है, जो उनके लिए अतिरिक्त आय का एक अच्छा स्त्रोत है | हालाँकि अधिकांश किसान गाय, भैंस, बकरी आदि का पालन अधिक करते है परन्तु हमारे देश में कई ऐसे राज्य है, जहाँ भेड़ पालन का कार्य एक बड़े पैमानें पर किया जाता है | दरअसल भेड़ पालन में अन्य पशुओं की अपेक्षा लागत कम लगती है और लाभ अधिक होता है | इसे छोटे और सीमांत किसान आसानी से कर सकते हैं।

पिछले कुछ वर्षो में भेड़ पालन व्यवसाय में काफी वृद्धि देखनें को मिली है, क्योंकि भेड़ जंगली घास या खरपतवार खाकर ही अपना विकास करती हैं, जिसके कारण इनके पालन और देखभाल में अधिक खर्च की आवश्यकता नही होती है | यदि आप भी भेड़ पालन करना चाहते है, तो भेड़ पालन कैसे करें ? इसके बारें में आपको यहाँ पूरी जानकरी प्रदान की जा रही है | 

सूअर पालन के लिए लोन कैसे प्राप्त करे

भेड़ पालन के बारे में जानकारी (Information About Sheep Farming)

भेड़ एक शाकाहारी पालतू पशु है, जो बहुत ही तेजी से बढ़ता है | सबसे खास बात यह है, कि इसके रखरखाव का खर्च काफी कम होता है | दरअसल यह भोजन के रूप में जंगली घास-फूस तथा पेड़-पौधों की हरी पत्तियों को खाकर अपना शरीरिक विकास करती है, कुल मिलाकर इनका आहार काफी सरल होता है | इनके भोजन के लिए आपको अधिक परिश्रम नही करना होता है | भेड़ों को मुख्य रूप से ऊन, मांस, दूध प्राप्त करनें के उद्देश्य से पाला जाता है | भेड़ का मांस काफी पौष्टिक होनें के साथ ही इसमें कई विटामिन पाए जाते है और सबसे अधिक मांग इसके ऊन की है, जिसके कारण इसकी उपयोगिता और बढ़ जाती है |

देश में 20वीं पशु गणना के अनुसार देश में 10 मिलियन से अधिक भेड़ हैं, जिनका पालन लोगो द्वारा किया जा रहा है | कई मायनों में भेड़ पालन अन्य पशुओं की अपेक्षा काफी सरल है, क्योंकि भेड़ें आकार में छोटी होती हैं | जिसके कारण इनका पालन कम स्थान में बड़ी सरलता से किया जा सकता है | सबसे खास बात यह है, कि इनमें मौसम के अनुरूप स्वयं को ढ़ालने की क्षमता होती है इसलिए इन्हें हर तरह की जलवायु में पाला जा सकता है |          

भेड़ पालन कैसे करें (How to Raise Sheep Farming)

हमारे देश में पशुपालन कार्य सदियों से किया जा रहा है, जिसमें भेड़ भी शामिल है |  भेड़ पालन का कार्य देश के लगभग सभी देशो में किया जा रहा है और इस मामले में भारत तीसरे नंबर पर सबसे ज्यादा भेड़ों का पालन करने वाला देश हैं | भारत के कई राज्यों में भेड़ों के पालन का काम किया जा रहा है, जो उनकी आय का मुख्य स्त्रोत है |  भेड़ पालन का व्यवसाय निरंतर बढ़ता जा रहा है | यदि आप भी इस व्यवसाय को शुरू करना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपको भेड़ पालन से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त करनी होगी |

हालाँकि शुरुआत में आप भेड़ पालन व्यवसाय अधिक मुनाफा कमाने के उद्देश्य से कर रहे है, तो शुरुआत में आप 20 मादा भेड़ो के साथ 1 नर भेड़ (20+1) फार्मूले के साथ भेड़ पालन व्यवसाय आरंभ कर सकते हैं। यदि हम भेड़ की कीमत की बात करे तो इसकी कीमत उसकी नस्ल पर निर्भर करती है और कितनें माह की है |

आमतौर पर एक भेड़ की कीमत 3 हजार रुपये से लेकर 8 हजार के बीच हो सकती है। कहनें का आशय यह है, कि आप लगभग 1 लाख रुपए में अपना भेड़ पालन व्यवसाय बड़ी आसानी से कर सकते है | 20 भेड़ो के लिए 500 स्क्वैयर फीट का बाड़ा पर्याप्त माना जाता है परन्तु यह खुला और हवादार होना चाहिए| आप यह बाड़ा तीस से चालीस हजार रुपये में तैयार कर सकते हैं।

बकरी पालन के लिए लोन कैसे ले

भेड़ पालन हेतु आवश्यक चीजें (Things Needed for Sheep Farming)

किसी भी व्यवसाय को  शुरु करनें में जिस प्रकार कुछ मूलभूत चीजों की आवश्यकता होती है, ठीक उसी प्रकार भेड़ पालन करनें में कुछ महत्वपूर्ण चीजों की जरुरत होती है, जो इस प्रकार है-

भेड़ पालन हेतु जमीन (Sheep Farming Land)

किसी भी व्यवसाय को शुरू करने के लिए सबसे अफ्ली आवश्यक आवश्यकता जमीन होती है, जहाँ आप इनका पालन करेंगे | यदि आप भेड़ पालन कार्य छोटे पैमानें पर कर रहे है, तो आप इसे अपने घर पर ही आसानी से कर सकते हैं | बड़े पैमानें पर भेड़ पालन के दौरान पशुओं को खुले स्थान की आवश्यकता होती है | भेड़ पालन के दौरान एक भेड़ के विकास के लिए अधिकतम 10 वर्ग फिट की आवश्यकता होती है | भेड़ पालन के दौरान सभी भेड़ों को एक साथ रखा जा सकता हैं, क्योंकि इन जीवों में आपस में लड़ने की प्रवृति नही पाई जाती है | हालाँकि नर पशु और गर्भित पशु को अन्य पशुओं से अलग से रखने की व्यवस्था की जाती हैं |

नर भेड़ के रहने का स्थान (Male Sheep Dwelling)

भेड़ के नर पशु को मादा भेड़ो से अलग रखा जाता है, ताकि उन्हें भोजन उचित मात्र में देने के साथ ही देखभाल अच्छी तरह से की जा सके | पशु एक्सपर्ट्स के अनुसार, 30 मादा भेड़ो पर 1 नर पशु पर्याप्त होता है, इसके अलावा नर पशु हिंसक प्रवत्ति के होते है | जिसके कारण इन्हें अलग ही रखा जाता है |      

गर्भित पशु के लिए रहने का स्थान (Abode of A Pregnant Animal)

गर्भित भेड़ो को हमेशा अन्य भेड़ो से अलग रखा जाता है, क्योंकि गर्भावस्था में पशु को चोट लगने की वजह से आपको भेड़ और बच्चे दोनों का नुकसान उठाना पड़ सकता है | एक स्थान पर आप 3 से 4 गर्भित भेड़ों को आसानी से रख सकते हैं, जिसके लिए अधिकतम 25 से 30 वर्गफीट की दूरी की आवश्यकता होती हैं |

भेड़ो के लिए भोजन की व्यवस्था (Provision of Food for Sheep)

भेड़ो के समुचित विकास के लिए उन्हें उचित मात्र में भोजन की आवश्यकता होती है | वैसे तो भेड़ो को सामान्य रूप से खुले स्थान पर चराया जाता है, इनका मुख्य भोजन जंगली हरी घास और पेड़ो की पत्तियां है | हालाँकि अधिकांश भेड़ पालक इन्हें बाहर ही चराते है परन्तु इस बात का ध्यान रखे कि भेड़ों को चराहों में सुबह और शाम के वक्त ही चराना चाहिए |

भेड़ पालन हेतु सरकार द्वारा वित्तीय सहायता (Financial Assistance by The Government for Sheep Farming)

भेड़ पालन के लिए सरकार की तरफ से वित्तीय सहायता अधिकतम 1 लाख रुपये प्रदान की जाती है, जिसमें से 90% राशि किसान को ऋण के रूप में दी जाती है और शेष 10% राशि भेड़ पलक को स्वयं वाहन करनी होती है | सरकार द्वारा लोन के रूप में दी जानें वाली 90% धनराशि में 50 प्रतिशत राशि पर पशुपालक को ब्याज नही देना होता है | जबकि शेष बची 40% धनराशि पर आपको ब्याज देना होता है | सरकार द्वारा इस ऋण को चुकानें की अवधि 9 वर्ष निर्धारित की गयी है |   

मत्स्य पालन के लिए लोन कैसे लें   

भेड़ पालन से इनकम की गणना (Calculation of income from sheep Farming)

भेड़ पालन के दौरान 1 भेड़ एक वर्ष में दो बार बच्चों को जन्म देती हैं, यदि इनकी देख-भाल अच्छी तरह से की जाये, तो आप प्रत्येक मादा भेड़ों से दो बच्चे एक बार में प्राप्त कर सकते है | इस प्रकार यदि आप 15 मादा भेड़ों के साथ पशुपालन शुरू करते है, तो 1 वर्ष में आपके पास लगभग 50 भेड़ें हो जाएगी |   

यदि हम 1 भेड़ की कीमत लगभग 7 हजार मानकर चले तो 50 भेड़ों की कुल कीमत लगभग 3.5 लाख होती हैं | जिसमें यदि सभी भेड़ों की खरीद से लेकर उनके खाने और सभी व्यय लगभग 2.5 लाख निकाल देते है, तो किसान को एक वर्ष में 1 लाख की आय बड़ी आसानी से हो जाती है |

पशुपालन लोन कैसे मिलता है