अकरकरा की खेती कैसे करें | Anacyclus Pyrethrum Farming in Hindi | अकरकरा की कीमत

Table of Contents

अकरकरा (Anacyclus Pyrethrum) की खेती से सम्बंधित जानकारी

अकरकरा (Anacyclus) की खेती को औषधीय खेती के रूप में जाना जाता है | इस खेती में होने वाले पौधों की जड़ो का इस्तेमाल मुख्य रूप से आयुर्वेदिक दवाओं के बनाने में किया जाता है | अकरकरा के पौधों के उपयोग से कई तरह की बीमारियों को ठीक किया जा सकता है |

यह कम मेहनत में अधिक लाभ वाली खेती होती है, इसकी खेती में किसान अधिक पैदावार कर अच्छी कमाई कर सकते है | यदि आप भी इस तरह की खेती को करना चाहते है तो यहाँ पर आपको अकरकरा की खेती से जुड़ी जानकारी अकरकरा की खेती कैसे करें, Anacyclus Pyrethrum Farming in Hindi, अकरकरा की कीमत आदि के बारे में समस्त जानकारी दी गयी है |

अकरकरा की खेती कैसे करे (How to Cultivate Akarkara)

अकरकरा की खेती करने में लगभग 6 से 8 महीने का समय लगता है | यह फसल सम शीतोष्ण जलवायु में अच्छे से विकास करती है इसकी खेती को खासकर भारत के मध्य राज्यों में उगाया जाता है, जैसे:- उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात, हरियाणा और महाराष्ट्र आदि ऐसे राज्य है, जहाँ इसकी खेती अधिक होती है | इसकी खेती पर अधिक सर्दी और तेज गर्मी का ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ता है, यह पौधा छोटी-छोटी पत्तियों से घिरा भूमि सतह पर ही गोलाकार रूप में विकसित होता है इसकी खेती में भूमि का P.H. मान सामान्य होना चाहिए |

अकरकरा की खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी (Suitable Soil for Cultivation of Akarkara)

इसकी खेती करने के लिए अच्छे जल निकासी वाली उपजाऊ भूमि होनी चाहिए क्योकि जलभराव और भारी मिट्टी वाली भूमि पर इसकी खेती को नहीं किया जा सकता है | इसकी खेती के लिए जरूरी P.H. मान लगभग 7 होना चाहिए |

अकरकरा की खेती में उपयुक्त जलवायु और तापमान (Suitable Climate and Temperature in Akarkara Cultivation)

इसकी खेती के लिए समशीतोष्ण जलवायु को सबसे अच्छा माना गया है | भारत में इसकी खेती रबी की फसल के बाद की जाती है, अकरकरा की फसल को अधिक धूप की जरूरत होती है | इसकी खेती को छायादार जगहों पर नहीं किया जा सकता है क्योंकि छायादार जगह पर इसके पौधों की जड़ो का अच्छे से विकास नहीं हो पाता है | इसलिए इसकी खेती को छायादार जगहों पर नहीं करना चाहिए और न ही ज्यादा बारिश वाली जगह पर, क्योकि इसे अधिक जल की भी जरूरत नहीं होती है | अकरकरा के पौधों पर सर्दी और गर्मी के मौसम का असर इसकी पैदावार पर नहीं होता है, क्योकि यह पौधे सर्दियों में गिरने वाले पीला को भी सहन कर लेते है |

अकरकरा के पौधों को शुरुआत में अंकुरित होने के लिए 20 से 25 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है | इसके पौधों को अच्छे से विकास करने के लिए न्यूनतम 15 और अधिकतम 30 डिग्री तापमान की जरुरत होती है, तथा पौधों के पकने के समय इन्हे 35 डिग्री तापमान की आवश्यकता होती है |

खेत की तैयारी कैसे करे (How to Prepare the Field)

इसकी खेती के लिए मिट्टी भुरभुरी और नर्म होनी चाहिए , यह एक कंदवर्गीय (Tuberous) फसल होती है, जिसके फल भूमि के अंदर विकास करते है | इसलिए जब इसकी खेती करे तो इसकी खेत की मिट्टी को पलटने वाले हलो से इसकी गहरी जुताई करके कुछ दिन के लिए इसे खुला छोड़ दे | उसके बाद गोबर की खाद को खेत में डालकर मिट्टी में अच्छे से मिला दे | इसके बाद खेत में पानी लगा कर पलव कर दे, पलेव करने के कुछ दिन बाद जब खेत की ऊपरी मिट्टी सूखने लगे तब खेत की फिर से जुताई कर देनी चाहिए |

पौधे तैयार करने का तरीका (How to Grow Plants)

अकरकरा की फसल को पौधों और बीज दोनों ही रूप में उगाया जा सकता है | इसके पौधों को भी पहले नर्सरी में तैयार किया जाता है, बीजो को नर्सरी में तैयार करने से पहले उन्हें गोमूत्र से उपचारित कर लेना चाहिए | जिससे पौधों में शुरुआती रोग नहीं लगते है, पौधों को उपचारित कर उन्हें प्रो – ट्रे में एक महीने पहले लगा देना चाहिए | बीजो के तैयार हो जाने पर उन्हें खेत में तैयार की हुई मेड़ में लगा देना चाहिए |

पौधों को लगाने का सही तरीका व समय (Right Way and Time To Plant Plants)

अकरकरा की खेती को बीज और पौध दोनों ही रूप में तैयार किया जा सकता है. यदि आप इसकी खेती को बीज के रूप में करना चाहते है तो आपको तीन किलो बीजो की जरूरत होगी और यदि पौध के रूप में करना चाहते है तो दो किलो बीज ही काफी है . बीजो को खेत में उगाने से पहले उन्हें गोमूत्र से उपचारित कर लेना चाहिए इसके बाद उन बीजो की रोपाई खेत में मेड़ पर की जाती है . प्रत्येक बीज के लिए 15 सेंटीमीटर की दूरी तथा दो से तीन सेंटीमीटर गहराई से लगाना चाहिए तथा मेड़ से मेड़ की दूरी एक फिट होनी चाहिए |

पौधों के रूप में इसके पौधों की रोपाई भी मेड़ पर ही की जाती है, मेड़ पर इसके पौधों को जिगजैग तरीके का इस्तेमाल कर 15 से 20 सेंटीमीटर की दूरी पर लगाना चाहिए , तथा रोपाई करते समय 4 से 5 सेंटीमीटर की गहराई में लगाना चाहिए | पौधों की रोपाई के लिए शाम के वक़्त को काफी उपयुक्त माना गया है, इससे पौधे अच्छी तरह से अंकुरित होते है |

इसकी खेती में बीज और पौधों की रोपाई को अक्टूबर और नवंबर महीने के बीच में करना चाहिए, क्योकि यह समय पौधों के विकास के लिए उपयुक्त माना गया है |

पौधों की सिंचाई का तरीका (Irrigation Methods of Plants)

पौधों को खेत में लगाने के पश्चात उनकी सिंचाई कर देनी चाहिए . जिससे पौधों को अंकुरित होने में आसानी होती है . इसके पौधों की पहली सिंचाई करने के बाद बीज के अंकुरित होने तक खेत में नमी की मात्रा को बनाये रखने के लिए हल्की-हल्की सिंचाई करते रहना चाहिए |

अकरकरा की खेती को जाड़ो के मौसम में किया जाता है जिससे पौधों को अंकुरित होने में कम सिंचाई की आवश्यकता होती है . जब पौधों की 5 से 6 सिंचाई तक हो जाती है तब इसके पौधे पककर तैयार हो जाते है. तथा पौधों के अंकुरित हो जाने के बाद 20 से 25 दिन में पानी देते रहना चाहिए |

अकरकरा के पौधों में उर्वरक की सही मात्रा (The Right Amount of Fertilizer for Plants)

सभी फसलों की तरह ही इस फसल के पौधों को भी उवर्रक की जरूरत होती है, इसके लिए खेत को तैयार करते समय प्रति एकड़ में 12 से 15 गाड़ी पुरानी गोबर की खाद को डालना चाहिए | किसान भाई चाहे तो गोबर की खाद की जगह जैविक खाद का भी इस्तेमाल कर सकते है, किन्तु रासायनिक खाद का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योकि इसकी खेती को औषधि पौधों के लिए की जाती है | यदि फिर भी रासायनिक खाद का उपयोग करते है, तो एक एकड़ में एक बोरा N.P.K. की मात्रा आखरी जुताई के समय छिड़क दे |

अकरकरा की खेती में खरपतवार पर नियंत्रण (Weed Control)

अकरकरा की खेती में खरपतवार नियंत्रण काफी महत्वपूर्ण होता है | इसमें खरपतवार पर नियंत्रण के लिए निराई – गुड़ाई का इस्तेमाल किया जाता है | यदि रासायनिक तरीके का इस्तेमाल कर खरपतवार पर नियंत्रण किया जाये तो कंदो की गुणवत्ता में असर देखने को मिलता है | इसमें पहली गुड़ाई को पौध रोपाई के लगभग 20 दिन के अंतराल में कर देना चाहिए | इसके बाद की गुड़ाई को 20 से 25 दिन के अंतराल में करते रहना चाहिए | इसके पौधों में तीन बार की गुड़ाई ही काफी होती है |

अकरकरा के पौधों में लगने वाले रोग और उनकी रोकथाम (Diseases and Their Prevention in Plants of Akarkara)

इसके पौधों में अभी तक किसी तरह के रोग देखने को नहीं मिले है, किन्तु अधिक जलभराव के कारण इसके पौधों के सड़ने की सम्भावना बढ़ जाती है | जिससे इसकी पैदावार को काफी नुकसान हो सकता है, इसलिए जलभराव की स्थिति से बचाव करना चाहिए|

अकरकरा के पौधों की खुदाई और सफाई का तरीका (Plant Digging and Cleaning Method)

पौधों की रोपाई के लगभग 5 से 6 माह के बाद पौधे खेत से खुदाई के लिए तैयार हो जाते है | वह पौधे जो पूरी तरह से पक चुके होते है उनकी पत्तिया पीले रंग की हो जाती है, और पौधे सूखने की स्थिति में होते है | उनकी खुदाई गहरी मिट्टी उखाड़ने वाले हलो से कर लेनी चाहिए तथा खुदाई से पहले पौधों पर बने बीज वाले डंठलों को तोड़कर जमा कर ले | एक एकड़ में लगभग डेढ़ से दो क्विंटल तक के बीज तैयार हो जाते है |

जड़ो से उखाड़े गए इन पौधों को साफ कर पौधों से काट कर अलग कर लेना चाहिए, तथा जड़ो से अलग करने के बाद उन्हे दो से तीन दिन तक छायादार जगह या फिर हल्की धूप में सूखाकर बोरो में भरकर बाजार में बेच दिया जाता है | सिंगल जड़ वाली फसल का बाजारी भाव अधिक होता है |

अकरकरा की फसल की पैदावार और लाभ (Akarkara Crop Yield and Benefits)

अकरकरा की खेती में प्रति एकड़ फसल में डेढ़ से दो क्विंटल तक बीज और 8 से 10 क्विंटल तक जड़े प्राप्त होती है | यह जड़े बाजार में 20 हजार रूपए प्रति क्विंटल के हिसाब से बिकती है, तथा बाजार में इसके बीजो का भाव 10 हजार रूपए प्रति क्विंटल के आसपास होता है | किसान भाई इसकी एक एकड़ में एक बार की फसल में 2 से 3 लाख तक की कमाई कर सकते है |